[Total: 0    Average: 0/5]

रोगी का नाम कमलेश मिश्रा हैं जो दिल्ली में सोनिया विहार के रहने वाले हैं। किडनी की बीमारी की वजह से रोगी को बहुत-सी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था और क्रिएटिनिन लगातार बढ़ता जा रहा था। जिसके चलते रोगी को डायलिसिस लेने की सलाह दे दी थी।

इलाज से पहले

  • यूरिन का कम आना
  • थकान महसूस होना
  • चलने में दिक्कत
  • उच्च क्रिएटिनिन लेवल – 9.9
  • उच्च यूरिया – 181

आयुर्वेदिक इलाज के बाद

कर्मा आयुर्वेदा की मदद से रोगी पहले से बेहतर महसूस कर रहा हैं। रोगी को बहुत सी जगह से इलाज करवाने के बाद भी सुधार नहीं मिला, लेकिन कर्मा आयुर्वेदा में आते ही लगातार क्रिएटिनिन गिरता चला गया और पहले से काफी फिट हैं।

  • यूरिन सही से आता हैं
  • थकान नहीं होती
  • क्रिएटिनिन लेवल – 6.8
  • यूरिया – 109

विश्लेषण:

भारत के प्रमुख किडनी अस्पताल कर्मा आयुर्वेदा के एक अनुभवी चिकित्सक डॉ. पुनीत धवन की सहायता से किडनी उपचार प्रदान करके किडनी रोगी को ठीक किया हैं और उसे डायलिसिस से बचाया हैं।

किडनी की बीमारी

किडनी संबंधी कई प्रकार के रोगों के समूह को किडनी की बीमारी कहा जाता हैं। जब किडनी किसी वजह से क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। काम करना बंद कर देती हैं या ठीक तरीके से काम नहीं कर पाती, तो इस स्थिति को किडनी की बीमारी कहा जाता हैं। जब किडनी की बीमारी हो जाती हैं, तो किडनी प्रभावी रूप से अपशिष्ट द्रव को शरूर से बाहर नहीं निकाल पाती जिससे शरीर में तरल पदार्थ का संतुलन भी खराब हो जाता हैं। शरीर में अपशिष्ट द्रव जमा होने से शरीर की केमिस्ट्री खराब हो जाती हैं, जिससे आपको शरीर में कुछ प्रकार के लक्षण महसूस होने लगते हैं और कुछ प्रकार के लक्षण गायब हो जाता हैं। साथ ही किडनी की बीमारी में कई रोग शामिल हैं, जैसे किडनी की पथरी, किडनी का कैंसर, किडनी की सूजन, पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज और पेशाब पथ में इंफेक्शन आदि। अगर आपको डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर या परिवार में पहले किसी को किडनी संबंधी बीमारी है, तो आप में किडनी संबंधी रोग होने की संभावनाएं ज्यादा हैं।

किडनी उपचार केंद्र कर्मा आयुर्वेदा जो एक चमत्कार के रूप में साबित हुआ हैं। यहां 1937 से किडनी रोगियों का इलाज किया जाता हैं। आयुर्वेद में डायलिसिस और किडनी ट्रांसप्लांट के बिना किडनी का इलाज किया जाता हैं। आयुर्वेद में किडनी समस्याओं को ठीक करने में परिणाम सफल रहा हैं। किडनी फेल्योर के लिए भारत और एशिया के बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर में से हैं डॉ. पुनीत धवन। उन्होंने देश-विदेश से आए किडनी रोग से पीड़ित हजारों मरीजों का इलाज करके रोग मुक्त किया हैं। आयुर्वेद में प्राकृतिक जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल किया जाता हैं। जिससे हमारे शरीर में कोई दुष्प्रभाव नहीं होता हैं।