[Total: 1    Average: 4/5]

जब प्रोटीन शरीर में पच जाता हैं, तो इसे पहले अमीनो एसिड में तोड़ दिया जाता हैं, जो विभिन्न प्रकार के कार्यों और उपयोगों के लिए अन्य अमीनो एसिड, हार्मोन और एंजाइम बनाने के लिए उपयोग किया जाता हैं। प्रोटीन की पूरी तरह से टूट जाने के बाद ये अपशिष्ट उत्पादों को पैदा करेगा जो पाचन तंत्र की दीवारों के माध्यम से और रक्तप्रवाह में बाहर निकलते हैं, जहां उन्हें फिल्टर्ड किया जाएगा और किडनी द्वारा हटा दिया जाएगा। साथ ही स्वस्थ किडनी रक्तप्रवाह से रक्त और अन् अपशिष्ट उत्पादों को फिल्टर करने के लिए एक साथ काम करते हैं, लेकिन अस्वास्थ्यकर किडनी कचरे को छानने में सक्षम नहीं हैं और विषाक्त अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ शरीर में निर्माण करना शुरू कर देता हैं। ये स्थिति किडनी को और नुकसान पंहुचा सकती हैं और किडनी की पूर्ण विफलता का कारण बन सकता हैं।

शरीर में हाई प्रोटीन स्तर के संकेत

किडनी डिजीज के पहले चार स्टेजों के दौरान व्यक्ति को प्रोटीन का सेवन प्रतिबंधित करने की आवश्यकता होती हैं। रक्त में अधिक मात्रा में प्रोटीन मितली और उल्टी, भूख न लगना, कमजोरी और स्वाद में बदलाव और त्वचा में तेज़ खुजली का कारण बन सकता हैं। प्रोटीन के कम होने का मुख्य कारण ये है कि ऐसी स्थिति में किडनी उच्च प्रोटीन को पचाने से कतराते हैं। प्रोटीन की मात्रा पर प्रतिबंध और कम प्रोटीन स्त्रोत से चिपके रहने से किडनी बेहतर कार्य कर सकते हैं। अन्य प्रतिबंधित पोषक तत्व सोडियम और फास्फोरस हैं। रोगी को रेशेदार पदार्थों से भरपूर ताजी सब्जियों से बने ताजे भोजन का सेवन करना चाहिए। साथ ही विटामिन सी से भरपूर फल जैसे स्ट्रॉबेरी, अंगूर और ब्लैकबेरी को आहार में शामिल करना चाहिए।

वजन घटाने और ऊंचा प्रोटीन स्तर:

प्रोटीनुरिया का स्तर प्रोटीनुरिया किडनी की बीमारियों की प्रगति के लिए मुख्य जोखिम कारकों में से एक हैं। वजन घटाने या तो शारीरिक व्यायाम से प्रेरित हैं, कम कैलोरी आहार या बेरिएट्रिक सर्जरी और महत्वपूर्ण एंटी-प्रोटीनुरिया प्रभाव के साथ हैं। वजन घटाने की शुरूआत से कुछ हफ्तों के बाद प्रोटीनुरिया में कमी पहले से ही देखी जाती हैं और मामूली वजन घटाने वाले रोगियों में स्पष्ट हैं। शरीर के वजन घटाने और प्रोटीनमेह उनके बीच एक महत्वपूर्ण संबंध दर्शाती हैं।

आयुर्वेदिक उपचार और वजन घटाने पर नियंत्रण:

कर्मा आयुर्वेदा एशिया के सर्वश्रेष्ट चिकित्सालयों में से एक हैं। इसकी स्थापना 1937 में नई दिल्ली, भारत में हुई थी और ये दुनिया भर के किडनी रोगियों का इलाज कर रहे हैं। क्लिनिक ने अपने रोगियों को विश्व स्तरीय आयुर्वेदिक दवा और उपचार प्रदान करके एक ब्रांड मूल्य बनाया हैं। इसके नेतृत्व में डॉ. पुनीत धवन हैं जो एक आयुर्वेद चिकित्सक हैं। वह किडनी डिजीज को ठीक करने के लिए प्राकृतिक जड़ी-बूटियों और तकनीकों द्वारा डायलिसिस या ट्रांसप्लांट के लिए एक वैकल्पिक उपचार प्रदान करते हैं। वह किडनी के बेहतर कार्यकल्प के लिए दवाओं के साथ एक नियोजित आहार चार्ट भी देते हैं।

कर्मा आयुर्वेदा दिल्ली के प्रसिद्ध किडनी उपचार केंद्रो में से एक हैं। ये भारत का एकमात्र किडनी अस्पताल हैं जो 1937 में स्थापित किया गया था जिसके नेतृत्व में डॉ. पुनीत धवन हैं। वह 35 हजार से भी ज्यादा मरीजों का इलाज कर चुके हैं। वो भी डायलिसिस या ट्रांसप्लांट की सलाह के बिना। कर्मा आयुर्वेदा में सिर्फ आयुर्वेदिक दवाओं पर भरोसा किया जाता हैं।