[Total: 0    Average: 0/5]

शरीर से उचित द्रव संतुलन को बनाए रखने, अपशिष्ट पदार्थ को हटाने और रक्त से विषाक्त पदार्थों को खत्म करने के लिए किडनी महत्वपूर्ण काम करती हैं। किडनी पेशाब को बनाती हैं जो चयापाचय अपशिष्ट  और अतिरिक्त तरल पदार्थ को बाहर करने में मदद करता हैं। वे रक्त उत्पादन हार्मोन शुरू करने, हड्डियों को मजबूत करने और शरीर में पोषक स्तर को बनाए रखने में मदद करता हैं।

किडनी फेल्योर

किडनी फेल्योर एक ऐसी स्थिति का वर्णन करती हैं जिसमें किडनी अपने सामान्स कार्यों को प्रभावी ढंग से करने की क्षमता खो देते हैं। अपशिष्ट का संचय रक्त में रासयनिक असंतुलन कारण बन सकता हैं जो इलाज न किए जाने पर घातक हो सकता हैं। किडनी फेल्योर वाले मरीजों को एक निश्चित अवधि के बाद कम रक्त गणना या कमजोर हड्डियों के पास होना चाहिए। रेनल फेल्योर मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी विभिन्न बीमारियों की वजह से हो सकती हैं और समय के साथ किडनी फेल्योर के संकेत दिखाई देते हैं।

किडनी फेल्योर के संकेत और लक्षण:

  • थकान और कमजोरी
  • पेशाब में रक्त आना
  • सांस लेने में परेशानी
  • ब्लड प्रेशर का बढ़ना
  • सूखी त्वचा और खुजली होना
  • पेशाब करते समय दर्द और जलन होना


किडनी फेल्योर का कैसे पता लगा सकते हैं?

रेनल अल्ट्रासांउड – इस जांच में उच्च आवृत्ति गूंज तरंगों का उपयोग वास्तविक समय में किडनी की जांच करने के लिए किया जाता हैं और अक्सर किडनी की जांच के लिए पहली जांच होती हैँ।

एमआर या सीटी स्कैन – इस प्रक्रिया का उपयोग पेशाब में रक्त वाले मरीजों की जांच करने के लिए किया जाता हैं। साथ ही पेशाब पथ इंफेक्शन वाले मरीजों में मुद्ध की पहचान करने के लिए और पेशाब संग्रह प्रणाली कैंसर के इतिहास वाले रोगियों को ठीक करने के लिए किया जाता हैं।

बायोप्सी – ये मुख्य रूप से बीमारी के लिए जांच करने के लिए एक छोटी किडनी ऊतक नमूने की एक छवी निर्देशक हैं। ये निदान और किडनी की क्षति की सीमा प्रदान करने के लिए आवश्यक हो सकता हैं।

रक्त और पेशाब जांच ये पेशाब जांच में क्रिएटिनिन स्तर और प्रोटीन की पहचान करने में मदद करता हैं।

बूंदी में  किडनी फेल्योर का आयुर्वेदिक उपचार

कर्मा आयुर्वेदा अस्पताल भारत के बेस्ट किडनी उपचार केंद्रो में से एक हैं। यह अस्पताल 1937 में स्थापित किया गया था जिसके नेतृत्व में पांचवी पीढ़ी से डॉ. पुनीत धवन हैं। कर्मा आयुर्वेदा में सभी मरीजों को आयुर्वेदिक उपचार के साथ आहार चार्ट के पालन करने की सलाह दी जाती हैं। इसी तकनीकों से डॉ. पुनीत में 35 हजार से भी ज्यादा मरीजों का इलाज करके उन्हें रोग से मुक्त किया हैं। वो भी डायलिसिस या ट्रांसप्लांट की सलाह के बिना। बूंदी में किडनी फेल्योर का आयुर्वेदिक उपचार किया जाता हैं।

आयुर्वेदिक उपचार किडनी की क्षति को खत्म करने में बहुत प्रभावी हैं, लेकिन ये अकेले काम नहीं कर सकती हैं रोगी को सर्वोत्तम परिणामों के लिए दवाओं के साथ किडनी के आहार का पालन करना जरूरी होता हैं। आयुर्वेद में कुछ जड़ी-बूटियों और जैविक खुराक शामिल हैं जो किडनी को स्वस्थ रखने का काम करती हैं। सोडियम और प्रोटीन आहार में सीमित होना चाहिए और भोजन को ताजा पका हुआ खाना चाहिए। साथ ही उपचार के दौरान शराब, धूम्रपान या नशीले पदार्थों का सेवन ना करें।