[Total: 1    Average: 5/5]

क्रिएटिनिन क्या हैं?

क्रिएटिनिन शरीर की मांसपेशियों का टूटना उत्पाद हैं। ये आमतौर पर शरीर द्वारा मांसपेशियों के द्रव्यमान के आधार पर काफी स्थिर दर पर निर्मित होता हैं। यह अनायास क्रिएटिनिन के चक्रिय व्युप्पन्न द्वारा बनता हैं जो मुख्य रूप से किडनी द्वारा रक्त से बाहर फिल्टर किया जाता हैं। इस प्रक्रिया में किडनी द्वारा पेशाब में एक छोटी मात्रा को सक्रिय रूप से स्रावित किया जाता हैं और यहां कम ट्यूबलर पुन: अवशोषण होता हैं। रक्त में इसके स्तर में वृद्धि किडनी समारोह में समस्या तो इंगित करती हैं।

क्रिएटिनिन का स्तर आमतौर पर हर किडनी फंक्शन टेस्ट के साथ शामिल किया जाता हैं, क्योंकि उन्हें किडनी फंक्शन का अक विश्वसनीय संकेत माना जाता हैं। आमतौर पर रक्त क्रिएटिनिन के स्तर को लिया जाता हैं और किडनी की क्षति के स्तर का आकलन करने के लिए शरीर के ग्लोमेरूलर निस्पंदन दर (जीएफआर) का काम करता हैं। जीएफआर उस दर को मापता हैं जिस पर किडनी रक्त को फिल्टर करने में सक्षम होते हैं और ये आंकड़ा क्रिएटिनिन के स्तर के साथ विपरीत काम करता हैं, इसलिए जब जीएफआर कम होता हैं तो रक्त क्रिएटिनिन का स्तर उच्च होता हैं, जो किडनी को नुकसान पंहुचाता हैं।

नियोजित किडनी आहार

ये खाने का एक तरीका हैं जो आपकी किडनी को और नुकसान से बचाने में मदद करता हैं। एक आहार नियंत्रण कुछ खाद्य पदार्थों और तरल पदार्थों को सीमित करने का संकेत देता हैं ताकि कुछ खनिज शरीर में निर्मित न हों। साथ ही दैनिक भोजन के लिए प्रोटीन, विटामिन, कैलोरी और खनिजों का एक सहीं संतुलन आवश्यक हैं। किडनी आहार मुख्य रूप से फलों, सब्जियां, कम वसा वाले डेयरी उत्पादों, साबुत अनाज, मछली, पोल्ट्री, बीन्स, बीज और नट्स से भरपूर होता हैं। यह नमक और सोडियम, शर्करा और मिठाई, वसा और लाल मीट में कम हैं।


कैसे आयुर्वेद और योग क्रिएटिनिन स्तर को कम करने में मदद कर सकता हैं?

उम्र के माध्यम से, जड़ी-बूटियां अधिकांश पांरपरिक और समग्र उपचारों का एक महत्वूपूर्ण घटक थीं। वे दुनिया भर में और विभिन्न संस्कृतियों में सबसे महत्वपूर्ण औषधीय एजेंट थे। पश्चिम ने विभिन्न बीमारियों का इलाज करने के लिए बड़े पैमाने पर जड़ी-बूटियों का उपयोग किया था और पूर्व भारत और चीन ने हर्बल विज्ञान में महत्वपूर्ण प्रगति की थी। हर्बल विज्ञान का अभ्यास ज्यादातर उन पुरूषों तक सीमित था जो आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में शामिल थे और कई जड़ी-बूटियों वास्तव में सीमित था जौ आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में शामिल थे और कई जड़ी-बूटियां वास्तव में हजारों वर्षों तक आम आदमी के लिए अज्ञात रही हें, लेकिन जैसे-जैसे विभिन्न धार्मिक संस्थानों ने अपने प्रतिबंध हटा लिए और बाहर से पुरुषों के लिए औषधीय साहित्य का अपना संग्रह खोला, हर्बल विज्ञान का ज्ञान धीरे-धीरे सार्वजनिक क्षेत्र में उपलब्ध हो गया।

आज योगा दुनिया भर से जड़ी-बूटियों का सबसे अच्छा उधार लेता हैं। ज्ञान पहले से ही और योग के चिकित्सक इसका पूरा उपयोग कर रहे है, इसलिए जब हम योग और जड़ी-बूटियों के बारे में बात करते हैं, तो हम बहुत हद तक आयुर्वेद का मतलब समझते हैं, लेकिन ये आयुर्वेद से भी आगे निकल जाता हैं। जैसे उदाहरण के लिए आज जिनसेंग का उपयोग करें। यह एक प्राच्य टॉनिक जड़ी-बूटी हैं जिसे चीन से आयात किया गया हैं।

बता दें कि, कर्मा आयुर्वेदा भारत के प्रमुख आयुर्वेद केंद्र में से एक हैं जो सर्वोत्तम आयुर्वेदिक उपचार और चिकित्सा प्रदान करते हैं। इसके नेतृत्व में डॉ. पुनीत धवन हैं, जो एक अनुभवी आयुर्वेद चिकित्सक हैं, जिन्होंने अब तक अपने करियर में हजारों किडनी रोगियों का इलाज किया हैं। डॉ. पुनीत ने अपनी विशेषज्ञता और आयुर्वेदिक दवाओं के साथ 35 हजार से भी ज्यादा किडनी रोगियों को सफलतापूर्वक ठीक किया हैं।