Month: August 2018

किडनी फेल्योर ट्रीटमेंट के लिए अरूणाचल प्रदेश के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन।

किडनी फेल्योर ट्रीटमेंट के लिए अरूणाचल प्रदेश के बेस्ट डॉक्टर

कर्मा आयुर्वेदा में आयुर्वेदिक प्राकृतिक जड़ी-बूटियों की दवाओं से किडनी फेल्योर रोगियों को ठीक किया जाता हैं। कर्मा आयुर्वेदा 1937 से किडनी रोगियों की इलाज करते आ रहे हैं। अरुण देव धवन ने 1937 में स्थापित किया था। आज डॉ. पुनीत धवन के नेतृत्व में हैं। आयुर्वेदिक दवा 100% प्राकृतिक और नेचुरल होती हैं। जिससे रोगियों को किडनी में जल्द ही आराम मिलना शुरु हो जाता हैं। “किडनी फेल्योर ट्रीटमेंट के लिए अरूणाचल प्रदेश के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल” किडनी का कार्य मानव शरीर में ...

किडनी फेल्योर उपचार के लिए गोवा के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन।

किडनी फेल्योर उपचार के लिए गोवा के बेस्ट डॉक्टर

कर्मा आयुर्वेदा नई दिल्ली 1937 में अरुण देव धवन द्वारा स्थापित किया गया था और देखते ही देखते इस संख्या में वृद्धि होती चली गई। आज डॉ. पुनीत धवन इसके नेतृत्व में हैं। हर साल हजारों किडनी रोगियों का इलाज करते हैं। वो बिना डायलिसिस और बिना किडनी प्रत्यारोपण की सलाह के। डॉ. पुनीत धवन सिर्फ ओर सिर्फ आयुर्वेदिक उपचार पर विश्वास करते हैं। “किडनी फेल्योर उपचार के लिए गोवा के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल” किडनी फेल्योर शरीर में किडनी का मुख्य कार्य शुद्धिकरण का ...

किडनी फेल्योर उपचार के लिए हिमाचल प्रदेश के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन।

किडनी फेल्योर उपचार के लिए हिमाचल प्रदेश के बेस्ट डॉक्टर

आयुर्वेद चिकित्सा शरीर, मन और आत्मा का एक प्राचीन विज्ञान हैं। आयुर्वेद का उपयोग जड़ी-बूटियों और पूर्व-ऐतिहासिक तकनीकों के साथ इस्तेमाल किया जाता हैं। “किडनी फेल्योर उपचार के लिए हिमाचल प्रदेश के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल” विश्व में प्रमुख किडनी सेंटर में से एक हैं कर्मा आयुर्वेदा अस्पताल। ये 1937 से किडनी रोगियों को 100% प्राकृतिक इलाज कर रहे हैं। इसमें हर्बल दवाइयों के द्वारा रोगियों को किडनी रोग से मुक्त किया जाता हैं। यहां सभी तरह के किडनी रोग को प्राकृतिक इलाज किया जाता ...

केरल में क्रोनिक किडनी डिजीज का आयुर्वेदिक उपचार, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन।

केरल में क्रोनिक किडनी डिजीज का आयुर्वेदिक उपचार

क्रोनिक किडनी डिजीज में दोनों किडनी को खराब होने में महीनों से सालों तक का समय लगता है। इसके शुरूआत में दोनों किडनी की कार्यक्षमता में अधिक कमी न होने के कारण कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं, लेकिन जैसे-जैसे किडनी ज्यादा खराब होने लगती हैं और तब मरीज की तकलीफ बढ़ती जाती हैं। “केरल में क्रोनिक किडनी डिसीज का आयुर्वेदिक उपचार” क्रोनिक किडनी डिजीज के कारण: उच्च रक्तचाप शरीर में सूजन उल्टी, जी मिचलाना और एसिडिटी थकावट और कमजोरी खून में फीकापन ह्रदय की ...