Month: September 2018

किडनी फेल्योर उपचार के लिए कोलकाता के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन

किडनी फेल्योर उपचार के लिए कोलकाता के बेस्ट डॉक्टर

किडनी शरीर के महत्वपूर्ण हिस्सो में शामिल है। इनमें खराबी आने से जिंदगी जीना मुश्किल हो जाता है, लेकिन मेडिकल साइंस में हुई प्रगति के कारण अब किडनी फेल्योर के मरीज भी सामान्य जिंदगी जी सकते हैं। जी हां, वो भी सिर्फ आयुर्वेदिक उपचार से। नवीनतम दवाओं और उपचार के तरीकों से इन दिनों मिसमैच्ड किडनी प्रत्यारोपण उम्रदराज लोगों और एचआईवी से ग्रस्त लोगों में संभव हो चुका है। आजकल किडनी फेल्योर के मरीजों में बेतहाशा-वृद्धि हो रही है। देश में ही नहीं, बल्कि लगभग ...

हानिकारक तत्वों से किडनी को नुकसान, किडनी ट्रीटमेंट इन इंडिया, कर्मा आयुर्वेदा – डॉ. पुनीत धवन

हानिकारक तत्वों से किडनी को नुकसान

सेहतमंद रहने के लिए आपकी किडनी का स्वस्थ रहना भी बेहद जरूरी है। किडनी व्यक्ति के शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने का काम करती है, ताकि व्यक्ति स्वस्थ रह सके। किडनी शरीर से हानिकारण टॉक्सिन्स को बाहर निकालकर रक्त को फिल्टर करती है। ये हार्मोंन्स बनाने के साथ ही जरूरी मिनरल्स को भी एब्जॉर्ब करती है। यूरिन बनाने के अलावा ये शरीर में एसिड के लेवल को कंट्रोल करती है। यूरिन बनाने के अलावा ये शरीर में एसिड के लेवल को कंट्रोल करती ...

किडनी फेल्योर उपचार के लिए अहमदाबाद के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन

किडनी फेल्योर उपचार के लिए अहमदाबाद के बेस्ट डॉक्टर

किडनी फेल्योर के लिए अहमदाबाद के आयुर्वेदिक डॉक्टर में से एक हैं डॉ. पुनीत धवन। ये एशिया के सबसे अच्छे स्वास्थ क्लिनिक कर्मा आयुर्वेदा के प्रमुख हैं। उन्होंने लाखों रोगियों को आयुर्वेदिक प्राकृतिक जड़ी-बूटियों के साथ ठीक किया जाता है और किडनी के मरीजों को डाइट चार्ट की सलाह भी दी जाती है। “किडनी फेल्योर उपचार के लिए अहमदाबाद के बेस्ट डॉक्टर और आस्पताल” किडनी फेल्योर उपचार के लिए अहमदाबाद के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल किडनी शरीर का जरूरी कार्य शुद्धिकरण का होता है, लेकिन ...

आयुर्वेद की मदद से करें किडनी रोग का इलाज, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन

आयुर्वेद की मदद से करें किडनी रोग का इलाज

किडनी मानव शरीर में एक अहम अंग है। किडनी रक्त में मौजूद पानी और व्यर्थ पदार्थो को अलग करने का काम करता है। इसके अलावा शरीर में रसायन पदार्थों का संतुलन, हार्मोंस छोड़ना, रक्तचाप नियंत्रित करने में भी सहायता प्रदान करता है। ये लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में भी सहायता करता है। इसका एक और कार्य है विटामिन-डी का निर्माण करना, जो शरीर की हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत बनाता है। साथ ही दूषित पदार्थ खाने, दूषित जल पीने और नेफ्रॉन्स के टूटने से ...