Author: Karma Ayurveda

डायलिसिस के मरीजों के लिए बेहद आसान रेसिपी

डायलिसिस के मरीजों के लिए बेहद आसान रेसिपी

किडनी फेल्योर पूर्ण नुकसान की स्थिति है। किडनी फेल्योर के कारक क्रोनिक किडनी डिजीज , पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज, रीनल किडनी फेल्योर, गंभीर इंफेक्शन आदि हैं। इस बीमारी से पीडित रोगी अक्सर एलोपैथी द्वारा पेश की गई किडनी के प्रमुख उपचार के रूप में डायलिसिस को अपनाते हैं। डायलिसिस किडनी के कार्य का एक विकल्प हैं जो इलेक्ट्रोलाइट्स के सही स्तर को बनाए रखते हुए रक्त से अपशिष्ट को हटाने के लिए किया जाता हैं। किडनी के कार्यों को करने के लिए एक कृत्रिम किडनी का ...

कितने क्रिएटिनिन स्तर पर डायलिसिस शुरू करना चाहिए?

कितने क्रिएटिनिनस्तर पर डायलिसिस शुरू करना चाहिए

क्रिएटिनिन फॉस्फेट (मांसपेशियों के ऊतकों में मौजूद एक रासायनिक यौगिक) का बायोप्रोडक्ट हैं। रक्त से क्रिएटिनिन की निकासी सेम आकार के किडनी द्वारा न्यूनतम ट्यूबलर पुनर्संयोजन के साथ की जाती हैं। शरीर के ये फिल्टरिंग एजेंट पेशाब के माध्यम से अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को निकालकर रक्त को शुद्ध करते हैं। रक्त में क्रिएटिनिन का संचय घटे हुए जीएफआर का परिणाम हैं। जीएफआर को ग्लोमेर्युलर निस्पंदन दर के रूप में विस्तारित किया जाता हैं। यह एक वास्तविक किडनी का कार्य हैं जो कि घटने पर ...

हार्ट फेल्योर और किडनी फेल्योर का निदान

हार्ट फेल्योर और किडनी फेल्योर का निदान

यहां हम हार्ट फेल्योर और किडनी फेल्योर के निदान पर चर्चा करने जा रहे हैं, क्योंकि ये दो प्रमुख स्वास्थ्य स्थितियां आपस में जुड़ी हुई पाई जाती हैं। आज कई लोगों को किडनी डिजीज या ह्रदय रोगका निदान किया जाता हैं, क्योंकि ये दोनों ही वर्चस्व वाली स्वास्थ्य स्थितियां हैं जो कई लोगों के लिए मौत का कारण बन रही हैं। जिन लोगों को किडनी डिजीज होती हैं, उनमें दिल से जुड़ी बीमारियों और इसके विपरीत होने की संभावना अधिक होती हैं। आंकड़ो के अनुसार ...

क्रोनिक किडनी डिजीज – स्टेज – 4

स्टेज 4 किडनी डिजीज

क्रोनिक किडनी डिजीज प्रगतिशील किडनी की क्षति हैं जो धीमी और स्थिर हैं। किडनी इस स्थिति में अपना कार्य खो देते हैं। किडनी छोटे अंग जैसे शरीर में विभिन्न कार्य करती हैं। पेशाब का निर्माण एसिड और बेस का एक सही संतुलन बनाए रखना जैसे कुछ विशेष अंगों को सुरक्षित करना रेनिन, शरीर के रक्तचाप और रक्त की मात्रा को निंयत्रित करने के लिए एरिथ्रोपोइटिन, लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करने के लिए विटामिन-डी रक्त में कैल्शियम को अवशोषित और पुन: अवशोषित करने ...