Category: Blog

ऑर्थोस्टैटिक प्रोटीनुरिया उपचार

ऑर्थोस्टैटिक प्रोटीनुरिया उपचार

ऑर्थोस्टैटिक प्रोटीनुरिया या पोस्टुरल प्रोटीनुरिया को रात के दौरान सामान्य पेशाब प्रोटीन उत्सर्जन के रूप में परिभाषित किया जाता हैं, लेकिन दिन के दौरान वृद्धि हुई उत्तेजना, गतिविधि और ईमानदान मुद्रा से जुड़ी होती हैं। एक पूर्ण पेशाब प्रोटीन उत्सर्जन बढाया जा सकता हैं और अंतनिर्हित किडनी की बीमारी के साथ जुड़े होने की अधिक संभावना हैं। एक आयुर्वेदिक ऑर्थोस्टेटिक प्रोटीनुरिया उपचार बीमारी की तेजी से वसूली में मदद कर सकता हैं। ऑर्थोस्टैटिक प्रोटीनुरिया संकेत किडनी फेल्योर के लक्षण बेहद सामान हैं। इसमें ऑलिगुरिया हैं ...

पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज का बेस्ट निदान

पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज का बेस्ट निदान

हमारे शरीर के अंदर के दो किडनी कई विकारों और बीमारियों से जुड़े होते हैं। निस्पंदन अनुभाग होने के नाते किडनी कई विकारों और बीमारियों से जुड़े होते हैं। पॉलीसिस्टिक किडनी रोग एक ऐसी किडनी की बीमारी हैं जिसमें बहुत अधिक तरल पदार्थ भरे हुए सिस्ट किडनी के अंदर विकसित हो जाते हैं। ये सिस्ट्स नॉनकैंसर होते हैं, लेकिन अगर ये बिना इलाज के रह जाए तो किडनी को पूरी तरह से नुकसान पंहुचा सकती हैं। इसके अलावा, पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज भी यकृत के अंदर ...

योगा द्वारा क्रिएटिनिन को कैसे कम किया जा सकता हैं?

योगा द्वारा क्रिएटिनिन को कैसे कम किया जा सकता हैं

क्रिएटिनिन क्या हैं? क्रिएटिनिन शरीर की मांसपेशियों का टूटना उत्पाद हैं। ये आमतौर पर शरीर द्वारा मांसपेशियों के द्रव्यमान के आधार पर काफी स्थिर दर पर निर्मित होता हैं। यह अनायास क्रिएटिनिन के चक्रिय व्युप्पन्न द्वारा बनता हैं जो मुख्य रूप से किडनी द्वारा रक्त से बाहर फिल्टर किया जाता हैं। इस प्रक्रिया में किडनी द्वारा पेशाब में एक छोटी मात्रा को सक्रिय रूप से स्रावित किया जाता हैं और यहां कम ट्यूबलर पुन: अवशोषण होता हैं। रक्त में इसके स्तर में वृद्धि किडनी समारोह ...

किडनी डिजीज और क्रिएटिनिन लेवल

किडनी डिजीजके साथ सामान्य क्रिएटिनिन

क्रिएटिनिन मांसपेशियों के कार्यों का एक उत्पाद हैं जिसे किडनी द्वारा पेशाब में रूप में बाहर निकाल दिया जाता हैं। व्यक्ति के जितना अधिक क्रिएटिनिन होगा उतनी अधिक पेशी होगी। सामान्य किडनी समारोह वाले पुरूषों में क्रिलिटर प्रति 0.6 -1.2 मिलीग्राम के बीच सामान्य क्रिएटिनिन का स्तर होगा, जबकि महिलाओं में ये प्रति डेसीलीटर 0.5 – 1.1 मिलीग्राम के बीच होता हैं। महिलाओं के शरीर में कम मांसपेशियां होती हैं, इसलिए बनाई गए क्रिएटिनिन मात्रा में कम होगी। किडनी पेशाब के निर्माण, हार्मोन के स्राव ...