Category: Blog

किडनी डायग्नोस्टिक टेस्ट, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन

किडनी डायग्नोस्टिक टेस्ट

आज लगभग 15 प्रतिशत अमेरीकी लोगों को क्रोनिक किडनी की बीमारियां हैं। प्राकृतिक जड़ी-बूटियों और अवयवों के कम उपयोग के कारण दुनिया भर में संख्याएं बढ़ रही हैं। आज लोग एक प्रदूषित वातावरण में रह रहे हैं और ये एक अपर्याप्त जीवनशैली है जो किडनी से संबंधित बीमारियों के प्रमुख कारण के रूप में काम करती है। साथ ही मधुमेह और उच्च रक्तचार की तीव्र वृद्धि कर क्रोनिक किडनी की बीमारी वाले रोगियों की संख्य़ा को भी बढ़ावा दे रही है। अब बात आती है ...

किडनी फेल्योर उपचार के लिए दिल्ली के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन।

किडनी फेल्योर उपचार दिल्ली

किडनी की भूमिका शरीर से उचित द्रव संतुलन को बनाए रखने, अपशिष्ट पदार्थ को हटाने और रक्त से विषाक्त पदार्थों को खत्म करने के लिए किडनी महत्वपूर्ण काम करती है। किडनी पेशाब को बनाती है जो चयापचय अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ को बाहर करने में मदद करता है। वे रक्त उत्पादन हार्मोन शुरु करने, हिड्डियों को मजबूत करने और शीरर में पोषक स्तर को बनाए रखने में मदद करता हैं। “किडनी फेल्योर उपचार के लिए दिल्ली के बेस्ट डॉक्टर और अस्पताल” किडनी फेल्योर किडनी ...

सीरम क्रिएटिनिन का आयुर्वेदिक उपचार, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन

सीरम क्रिएटिनिन का आयुर्वेदिक उपचार

जब ब्लड का लेवल बढ़ने लगता है तो तब किडनी खराब होने लगती है। एक लेवल पार करने के बाद रोगी को डायलिसिस की जरूरत हो जाती है। इस बीमारी से बचने से पहले हमें ये जरूर जानलेना चाहिए कि सीरम क्रिएटिनिन है क्या? ये हमारे शरीर का रासायनिक अकार्बनिक तत्व है जो रक्त के द्वारा किडनी से फिल्टर पर पेशाब से बाहर निकाल देता हैं। ये रासायनिक तत्व सामान्य मांसपेशियों के ठीक से कार्य करने से क्रिएटिनिन का लेवल ठीक रहता है, लेकिन अगर ...

प्रोटीनूरिया के आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट, कर्मा आयुर्वेदा डॉ. पुनीत धवन

प्रोटीनूरिया के आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट

प्रोटीनूरिया क्या हैं? प्रोटीनूरिया एक ऐसी बीमारी हैं जो मूत्र में प्रोटीन की अत्यधिक या उच्च मात्रा की उपस्थिति, किडनी की बीमारी का प्रारंभिक संकेत हो सकता हैं। स्वस्थ गुर्दे मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकलने के लिए प्रोटीन की एक महत्वपूर्ण मात्रा की अनुमति नहीं देते हैं, लेकिन किडनी की क्षति फिल्टरिंग सिस्टम को प्रभावित कर सकती है। साथ ही जिसके परिणामस्वरूप मूत्र में बहुत अधिक प्रोटीन रिसाव हो सकता है। अगर साफ शब्दों में कहा जाए तो, जिसमें पीड़ित व्यक्ति के ...