[Total: 0    Average: 0/5]

हमारे आसपास किडनी ट्रांसप्लाट से जुड़ी बहुत सी बातें सुनते हैं। किडनी डोनेशन, डायलिसिस, किडनी मैच न होना और कभी-कभी ऑपरेशन फैल होने जैसी समस्याएं काफी बढ़ चुकी हैं। पिछले कुछ सालों में किडनी से जुड़ी बीमारियों से होने वाली मौतों में काफी इजाफा हुआ हैं। लोग किडनी से जुड़ी समस्याओं के लक्षण समझ नहीं पाते और डॉक्टर के पास तब जा पाते हैं जब समस्या बहुत अधिक बढ़ चुकी होती हैं। जिससे बचने के अवसर निश्चित तौर पर घट चुके होते हैं। साथ ही हर साल हमारे देश में लाखों की संध्या में नए मरीज सामने आ जाते हैं। “किडनी की समस्या आयुर्वेदिक क्लीनिक”

किडनी हमारे शरीर में सफाई की काम करती हैं। किडनी मानव शरीर से गंदगी बाहर निकालने वाले सिस्टम का एक बहुत अहम हिस्सा हैं। दोनों किडनी में खून साफ होता हैं। हमारी किडनी में लाखों मिनी फिल्टर होते हैं। जिन्हें नेफरोंस कहते हैं। जो पूरी जिंदगी खून को साफ करने के काम आती हैं। किडनी में होने वाले इस सफाई सिस्टम के कारण हमारे शरीर से हानिकारक केमिकल्स पेशाब के साथ बाहर आ जाते हैं। ज्यादातर लोग दो किडनियों के साथ पैदा होते हैं और दोनों किडनी बीन्स के आकार की होती है और हमारी पसलियों के बीच में सुरक्षित रहती है। किडनी के अन्य कामों के साथ लाल रक्त कण का बनना और फायदेमंद हार्मोंस रिलीज करना शामिल हैं। किडनी द्वारा ब्लड प्रेशर नियंत्रित किया जाता है और हड्डियों के लिए बेहद जरूरी विटामिन-डी का निमार्ण किया जाता हैं। साथ ही शरीर में पानी और अन्य जरूरी तत्व जैसे मिनरल्स, सोडियम, पोटेसियम और फॉस्फोरस का रक्त में संतुलन बनाए रखती हैं। “किडनी की समस्या आयुर्वेदिक क्लीनिक”

किडनी की बीमारी के लक्षण:

कडनी खराब होने लगें तो मूत्र त्याग के समय दर्द होता हैं और रक्त भी आता है। इसके अलावा लक्षण देखने को मिलते हैं।

  • गर्मी में भी ठंड लगना।
  • भूख कम लगना।
  • शरीर में सूजन आना।
  • शरीर में थकान और कमज़ोरी आना।
  • पेशाब में प्रोटीन अधिक हो जाना।
  • पेशाब के समय जलन होना।
  • ब्लड प्रेशर बढ़ जाना।
  • त्वचा पर चकते पड़ना और खुजली होना।
  • मुंह का स्वाद ख़राब होना और मुंह से बदबू आना।  “किडनी की समस्या आयुर्वेदिक क्लीनिक”

किडनी की समस्या आयुर्वेदिक उपचार:

किडनी के इलाज के साथ-साथ ही एक स्वस्थ लाइफ स्टाइल भी होना आवश्यक हैं। किडनी रोगियों को अपनी डाइट का खास ध्यान रखना चाहिए। जिससें स्वस्थ का एकमात्र उद्देश्य शरीर में मिनरल और तरल पदार्थ को संतुलित करता हैं। एक स्पेशल डाइट शरीर में खराब प्रोडक्ट के निर्माण को सीमित कर सकता हैं। साथ ही कुछ ऐसे ही बेहतरीन फूड होते हैं जिन्हें रोड़ खाने में शामिल करना चाहिए।  “किडनी की समस्या आयुर्वेदिक क्लीनिक”

  • फल कोलेस्ट्रॉल और ग्लूकोज स्तर को कम करने में मदद करके किडनी की बीमारी के प्रभाव को कम करता हैं।
  • सभी हरी सब्जियां विटामिन ए, सी,के और फोलेट में उच्च होती हैं। इसके नियमित सेवन से आपको अपने स्वास्थ्य को ठीक करने में मदद मिलती हैं।
  • मूली और गाजर जैसे फाइबर वाले फूड शरीर में क्रिएटिनिन स्तर को कम करने में मदद करते है। “किडनी की समस्या आयुर्वेदिक क्लीनिक”

किडनी की सभी समस्या को जानने के लिए आप किडनी ट्रीटमेंट इन इंडिया, कर्मा आयुर्वेदा, डॉ. पुनीत धवन से संपर्क कर सकते हैं। कर्मा आयुर्वेदा 1937 के बाद से किडनी रोगियों का इलाज कर रहे हैं। कर्मा आयुर्वेद अस्पताल ने देश-विदेश में अपना एक मुकाम हासिल कर लिया है। साथ ही यहां सभी तरह की किडनी रोग का प्राकृतिक इलाज के साथ दूर किया जाता हैं। “किडनी की समस्या आयुर्वेदिक क्लीनिक”