क्रोनिक किडनी डिजीज (सी.के.डी) का स्टेज 2। कर्मा आयुर्वेदा – डा पुनीत धवन

इसमें eGFR 60 से 89 मिली/ मीनट होता हैं। इस समय रोगियों में किसी प्रकार का कोई लक्षण नहीं पाया जाता हैं, लेकिन रोगी को रात में बार-बार पेशाब जाना और उच्च रक्तचाप होना आदि शिकायतें करते हैं। साथ ही इनकी पेशाब की जांच में कुछ असामान्यताएं और रक्त जांच में सीरम क्रिएटिनिन की थोड़ी बढ़ी मात्रा हो सकती हैं। “क्रोनिक किडनी डिजीज स्टेज 2”

क्रोनिक किडनी डिजीज (सी.के.डी) का स्टेज 2

क्रोनिक किडनी डिजीज स्टेज 2 के लक्षण:

क्रोनिक किडीनी के लक्षम किडनी की क्षति की गंभीरता के आधार पर बदलाव आते है। सी.के.डी. को पांच चरणो में विभाजित किया गया हैं। किडनी की कार्यक्षमता के दर या eGFR के स्तर पर ये बदलाव होते ही हैं। eGFR का अनुमान रक्त में क्रिएटिनिन की मात्रा से पता लगाते हैं कि सामान्यत: eGFR 60ml/min से ज्यादा होता हैं। “क्रोनिक किडनी डिजीज स्टेज 2”

आप स्टेज 2 में क्या बदलाव कर सकते हैं?

  • डॉक्टर से खून की जांच करवाएं औ किडनी रोग से होने वाले स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं ये दूर रहे, क्योंकि सी.के.डी के लक्षण बाद के स्टेज में दिखाई देते हैं।
  • अपनी स्वस्थ जीवनशैली बदलाव लाएं जैसे- धूम्रपान छोड़े, व्यायाम करें, अच्छी तरह से खाएं, तनाव काम करें और भरपूर नींद लें।
  • आयुर्वेदिक उपचार करें।
  • सी.के.डी की सूचना के लिए अतिरिक्त संसा3धन देखें। “क्रोनिक किडनी डिजीज स्टेज 2”