Frequently Asked Questions – किडनी ट्रीटमेंट इन इंडिया

शुरूआत में किडनी रोग को जानना बेहद मुश्किल होता है और जब ये रोग बढ़ जाता है तो इसके इलाज में लाखों रूपये खर्च कर देते हैं, लेकिन इनते पैसे लगाने के बावजूद भी आप ठीक नहीं हो पाते। इसलिए FAQ से आप किडनी रोग और उसके उपचार के लिए आप कुछ भी सवाल के जवाब जान सकते हैं।

किडनी रोग के क्या लक्षण हैं?

क्रोनिक किडनी बीमारी का वो चरण है जिसमें गुर्दे शरीर से उत्पाद को खराब कर देते हैं और शरीर में पानी के स्तर को संतुलित करने में सफल नहीं होते हैं। साथ ही पुराने गुर्दे की बीमारी से जुड़े और भी संकेत हैं जिनमें शारीरिक और आंतरिक दोनों शामिल हैं। ये संकेत कुछ इस प्रकार के हैं।

  • थकान: इस बीमारी में थकावट और एकाग्रता में समस्या बहुत आम है।
  • नींद विकार: शरीर में जहरीले विषाक्त पदार्थ हैं जो नींद विकार का कारण बनता है।
  • सूखी त्वचा: ये सूखी और खुजली वाली त्वचा का भी कारण बनती है जो शरीर से खनिज के अतिरिक्त नुकसान के कारण होती है।
  • मूत्र में रक्त: पेशाब में खून बह रहा है।
  • मूत्र का रंग: मूत्र का रंग फोमनी लाल रंग में बदल जाता है
  • शरीर की सूजन: शरीर से सोडियम प्रतिधारण होता है जो शरीर में सूजन का कारण बनता है।
  • आंखें: सीकेडी से पीड़ित रोगी को आंखों के चारों ओर घबराहट होने की संभावना है।
  • भूख: शरीर में विषाक्त पदार्थ बनाने के कारण, अक्सर यही देखा जाता है कि रोगी को आहार में भूख की कमी महसूस होती है।
  • मांसपेशी cramping: शरीर से कैल्शियम नुकसान के कारण, रोगी की मांसपेशियों में ऐंठन आना शुरु हो जाती है।
  • मूत्र: ये ज्यादातर मामलों में भी देखा जाता है, रोगी सामान्य से अधिक या कम पेशाब करना शुरू कर देता है।

अगर रोगी इन लक्षणों से पीड़ित हो तो पुरानी गुर्दे की बीमारी के लिए आयुर्वेदिक उपचार के सलाह दी जाती है।

आप कैसे जान सकते हैं कि आप गुर्दे की समस्या से पीड़ित हैं?

आजकल उच्च रकतचाप, मधुमेह, निरजलीकरण और किडनी समस्याएं तो बेहद आम बात है, लेकिन शरीर में गुर्दे विनाशकारी साबित होते हैं। गुर्दे शरीर में पानी के स्तर को संतुलित करते हैं और मांसपेशियों में खनिज को बरकरार रखते हैं। गुर्दे की कार्यक्षमता ठीक नहीं रहे तो वो खराब होने का करण बन जाती है। जिससे रोगी कोमा में चला जाता है या उसकी मृत्यू भी हो सकती है। शुरुआत में पुराने गुर्दे की समस्या को पता लगाना बेहद मुश्किल होता है। इसलिए ये जानने के लिए कि आप पुराने गुर्दे की समस्या से पीडित है तो इन शुरुआती संकेतो से पता चल सकता हैं।

  • गुर्दे की बीमारी के रोगियों को निचले हिस्से के साथ-साथ जननांग क्षेत्र में जुड़वां / दर्द महसूस होने की संभावना है।
  • मुंह का स्वाद धीरे-धीरे बदल जाता है।
  • रोगी की भावना भी बुरा सांस लेती है।
  • क्रोनिक किडनी रोगियों के बीच पूरे दिन थकान और थकावट भी आम है।
  • सीकेडी रोगियों के बीच उल्टी और मतली भी आम हैं।
  • रोगी भी शरीर में सूजन हो रही है।
  • यदि रोगी सीकेडी से पीड़ित है तो मूत्र का रंग फोम्य गहरे लाल रंग में भी बदल जाता है।

वैसे सभी लक्षण बहुत आम बात हैं पुराने गुर्दे बीमारी का पता लगाने के लिए इन्हीं संकेतो का पता लगा सकते हैं। किडनी रोग की सही जांच के लिए आयुर्वेदिक उपचार से जरुर सलाह लें।

किडनी डायलिसिस को नैचुरल तरीके कैसे रोकें?

कर्मा आयुर्वदा आयुर्वेद कार्मास्युटिकल क्लिनिक है जिसने डायलिसिस और प्रत्यारोपण की एलोपैथिक प्रक्रिया के उपयोग के बिना सफलतापूर्वक सीकेडी 4 और सीकेडी 5 से पीड़ित मरीजों का इलाज किया है। साथ ही पुराने गुर्दे की बिमारी वो है जहां रोगी को गुर्दे अपशिष्ट उत्पादों को फिल्टर करने के लिए असमर्थ रहा है और शरीर में पानी के स्तर को संतुलित करता हैं। किडनी रोग के इलाज में पूर्णव, गोखुर और गुडुची जैसे आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के उपयोग के साथ किया जाता है। रोगी को हर्बल दवाओं, संतुलन आहार और रोगी चिकित्सा रिपोर्ट में सुधार ला सकता हैं। “पुरानी गुर्दे की बीमारी के इलाज के लिए कर्मा आयुर्वेदा द्वारा कुछ सुझाव जो डायलिसिस से बचने में मदद कर सकते हैं।”

  • चीनी और रक्तचाप को नियंत्रण में रखें। यह गुर्दे से संबंधित समस्याओं के जोखिम को कम करने में मदद करता है।
  • प्राणायाम जैसे गहरी सांस लेने की तकनीक गुर्दे से संबंधित समस्याओं के इलाज के लिए बहुत फायदेमंद है। ये चीनी स्तर को नियंत्रण में रखता है। यह यूरिया और क्रिएटिनिन के स्तर को विनियमित करने में भी मदद करता है।
  • गुर्दे से संबंधित समस्याओं के इलाज में नियमित व्यायाम बहुत महत्वपूर्ण है।
  • प्रोटीन सामग्री से भरा आहार गुर्दे के इलाज के लिए बहुत फायदेमंद है।
  • गुर्दे के लिए ताजा फल और सब्जी बहुत अच्छी हैं।
  • भोजन में कैल्शियम सामग्री कम होनी चाहिए।
  • कार्बोहाइड्रेट के साथ समृद्ध भोजन कम होना चाहिए।

डायलिसिस और प्रत्यारोपण के प्रोटोकॉल के साथ पुरानी गुर्दे की बीमारी से इलाज के लिए ये सभी संतुलन आहार बहुत फायदेमंद रहता हैं।

किशोरावस्था में गुर्दे की हानि क्या कारण है?

आजकल किशोरावस्था जिम जाने के लिए शोकिन है और मांसपेशी को बनाने के लिए एक कृत्रिम आहार की जरूरत पड़ती है। जिम जाने वालों के लिए कृत्रिम आहार और दवा सामग्री के साथ संभव है, लेकिन ये की दुष्प्रभावों के साथ भी समाप्त कर सकते हैं, क्योंकि ये गुर्दे के हानिकारक हैं और गुर्दे नुकसान पहुंचा सकता है। भोजन में प्रोटीन सामग्री के अधिकतर मामलों में गुर्दे को नुकसान ही पंहुचाता है। विशेषज्ञों के अनुसार, प्रोटीन शेक यौगिकों के क्रिस्टालाइजेशन के करण बनने वाले गुर्दे को पत्थर बना देता हैं। ये गुर्दे के काम को अवरुद्ध करता हैं और गंभीर दर्द का करण बनता हैं। गुर्दे की सभी परेशानी से बचने के लिए प्रोटीन शेक को नहीं पीना चाहिए। प्रोटीन शेक से एक और परेशानी है कि ये गुर्दो में तनाव भी पैदा कर देता हैं। जब किशोर शेक के रूप में अधिक प्रोटीन जमा कर लेते है तो तब गुर्दे को ज्यादा काम करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। इससे गुर्दे के काम में ज्यादा तनाव बन जाता है। गुर्दे पर उच्च प्रोटीन की खपत और अधिक मात्रा में लंबे समय तक गंभीर गुर्दे की क्षति होती है। जब किशोरी आवश्यकतानुसार प्रोटीन की अधिक मात्रा में खपत करता है, तो ये गुर्दे को रक्त को गलत तरीके से फ़िल्टर करना बंद कर सकता है। इसके परिणामस्वरूप मल में रक्त, खराब गंध, शारीरिक दर्द, थकान, उल्टी, और शरीर में सूजन जो गुर्दे की हानि पहुंचाने में शुरुआती होते हैं।

किडनी फेलर को कैसे रोकें?

कई प्रकार के शोध हैं जिससे कई खाद्य पदार्थ का पता चलता हैं। जिन्हें किडनी की असपलता को रोकने के लिए सुपर खाद्य पदार्थ माना जाता हैं। गुर्दे से संबंधित समस्याएं ये हैं कि गुर्दे शरीर से अपशिष्ट उत्पादों को फिल्टर करने और खनिजों के संतुलित करने में असमर्थ हैं। ये खाद्य पदार्थ किडनी को खराब होने से रोक सकता है। जैसे गोभी, फूलगोभी, लहसुन, प्याज और स्ट्रॉबेरी शामिल हैं। क्रोनिक किडनी विफलता से ठीक होने के लिए हर्बल दवा के साथ संतुलित आयु रखने के लिए कर्मा आयुर्वेदा द्वारा हमेशा सलाह दी जाती है।

आयुर्वेदिक उपचार प्रभावी है?

वो स्थिति जब गुर्दे रक्त से उत्पाद को खराब करने में सक्षम नहीं होते हैं और रक्तचाप को संतुलित करता है। साथ ही शरीर में खनिज स्तर को नियंत्रित भी करती हैं तो तब रोगी क्रोनिक किडनी रोग से पीड़ित होता हैं। सही प्रकार के संतुलन आहार और हर्बल दवाओं के उपयोग के साथ रोगी को आयुर्वेद में आसानी से इलाज किया जा सकता हैं और इससे आपको कोई साइड इफेक्ट्स नहीं पहुंचेगा। साथ ही आपकी मेडिकल रिपोर्ट में जल्द ही सुधार देखने को मिल जाता है। कर्मा आयुर्वेदा ने प्रत्यारोपण के प्रोटोकॉल के बिना कई मरीजों का सही से इलाज किया गया हैं और हर रोगी पूरी तरह से ठीक किया है।

किडनी रोगी के लिए आयुर्वेदिक उपचार कितना अच्छा है?

क्रोनिक किडनी रोग का मुख्य कारण है उच्च रक्तचाप और मधुमेह हैं। जब रोगी गुर्दे से संबंधित समस्याओं से पीड़ित होता है तो तब वे शुरुआती चरण में लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। जैसे-जैसे रोग बड़ा जाता हैं तब उसके सामने ये लक्षण दिखने शुरु हो जाते हैं। इसमें सूजन, जोड़ों में दर्द और मांसपेशी क्रैम्प शामिल है। आयुर्वेदिक उपचार सुरक्षित और प्रभावी है और केवल हर्बल दवाओं का उपयोग करता है जिसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। कर्म आयुर्वेद ने आयुर्वेदिक दवाओं की मदद से बहुत गुर्दे की बीमारी को सफलतापूर्वक ठीक किया है और बिना डायलिसिस के ठीक होने में उनकी मदद की है।