[Total: 2    Average: 5/5]

शराब पीना (अल्कोहोल) सेहत के लिए हानिकारक होता है। यह तो हम हमेशा ही पढ़ते व सुनते है, लेकिन शरीर के किस भाग पर इसका सबसे जयादा प्रभाव पड़ता है इस बात की भी आपको जानकारी होनी चाहिए। दरअसल शराब पीने (अल्कोहोल) से आपके शरीर के कई हिस्सों पर प्रभाव पड़ता है।  जिसमें आपकी किडनी भी शामिल होती हैं। अल्कोहल का थोड़ा बहुत सेवन करने पर शरीर के हिस्से पर ज्यादा प्रभाव नहीं पढ़ता, लेकिन इसका ज्यादा सेवन करना आपके लिए खतरे से खाली नहीं। दरअसल इसका सबसे ज्यादा प्रभाव किडनी पर पड़ता है। “अल्कोहोल और किडनी रोग”

रोग नियंत्रण केंद्र की माने तो ज्यादातर अमेरिकी एडल्स (तीन में से दो) शराब पीते हैं। अक्सर इनमें से कुछ नियमित शराब पीने वाले में एक समय में पांच से ज्यादा बार भी इसका सेवन करते है। एक बार में ज्यादा शराब पीने से इसका स्वास्थ्य पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है। किडनी के कार्य करने में अचानक गिरावट को एक्यूट किडनी फेलियर कहा जाता है। यह एक दम से नज़र नहीं आता, लेकिन यह कभी-कभी स्थायी किडनी में खराबी भी पैदा कर सकता है। “अल्कोहोल और किडनी रोग”

किडनी हानिकारक पदार्थों को फिल्टर करने का कार्य करता है। इन पदार्थों में अल्कोहल भी होते है। जयादा शराब पीने वालों की किडनी बहुत ही मुश्किल से काम करती है। शराब का कारण किडनी के कार्य में परिवर्तन होता है। साथ ही ब्लड को फिल्टर करने में उन्हें कम सक्षम बनाता है। शराब भी शरीर में तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट को नियंत्रित करने की क्षमता को प्रभावित करता है। जब शरीर में शराब निर्जलीकरण (सूख जाता है), सुखाने वाला प्रभाव कोशिकाओं और अंगों के सामान्य कार्य को प्रभावित कर सकता है, जिसमें किडनी भी शामिल हैं। इसके अलावा, शराब (अल्कोहोल) हार्मोन को बाधित कर सकता हैं जो कि किडनी के कार्य करने को प्रभावित करते हैं। “अल्कोहोल और किडनी रोग”

बता दें कि, अधिक शराब भी व्यक्ति के ब्लड प्रैशर को प्रभावित कर सकता है। जो लोग अधिक शराब का सेवन करते है। उन्हें ब्लड प्रैशर की बीमारी के होने की अधिक संभावना रखती हैं। ब्लड प्रैशर का होने किडनी की बीमारी का एक सामान्य कारण है। एक दिन में दो से अधिक बार शराब का सेवन करने से हाई ब्लड प्रैशर के विकास की संभावना बढ़ सकती हैं। अधिक मात्रा में अल्कोहल का सेवन करने से किडनी की बीमारी के होने की सबसे अधिक संभावना होती है, पेशाब में प्रोटीन (एल्ब्यून्यूरिया) विकसित होने का भी इसमें रिस्क होता है, किडनी ट्रीटमेंट इंडिया। “अल्कोहोल और किडनी रोग”

यह सबसे जरूरी है कि आप डॉक्टर के पास जाए वह इस यह सुनिश्चित करे की आपके लिए शराब पीना कितना सुरक्षित है। यहां तक कि अगर यह सुरक्षित है, तो तो आप शराब (अल्कोहोल) संयम में पीये। यह एक अच्छी दिशानिर्देश है कि पुरुषों को प्रति दिन एक व दो से ज्यादा बार नहीं पीना चाहिए। इसके साथ ही दिन में एक बार महिलाएं व बुजुर्गों इसका सेवन कर सकते है। लेकिन इस बात का विशेष ध्यान दे की आपको इसके लिए अपने डॉक्टर से सलाह लेनी होगी। “अल्कोहोल और किडनी रोग”